पड़ोसी देश में 'ग़दर' मच गया पाकिस्तान के आतंकवादी जमीन से आसमान से जंगलों से नदी नालों से घुसपैठ करने की फिराक में लगातार लगे हुए हैं
News

पड़ोसी देश में ‘ग़दर’ मच गया पाकिस्तान के आतंकवादी जमीन से आसमान से जंगलों से नदी नालों से घुसपैठ करने की फिराक में लगातार लगे हुए हैं

तो पाकिस्तान के आतंकवादी जमीन से आसमान से जंगलों से नदी नालों से घुसपैठ करने की फिराक में लगातार लगे हुए हैं पुंछ और बारामूला में आतंकी हमले के बाद अब पाकिस्तान ने जम्मू के अंदर जम्मू के अंदर ड्रोन भी भेजा लेकिन आतंक पैदा करने वाला पाकिस्तान का सारा आतंकी जखीरा अब भारत के कब्जे में आ गया कैसे देखिए भारत माता की जय भारत माता की जय तो पीए जेके पर हमला करो बालाकोट जैसा और पीए जेके को अपने अंदर शामिल करो मैं कहता हूं पंजाब को भी करो उस मुल्क की सरहद को कोई छू नहीं सकता।

पड़ोसी देश में ‘ग़दर’ मच गया पाकिस्तान के आतंकवादी जमीन से आसमान से जंगलों से नदी नालों से घुसपैठ करने की फिराक में लगातार लगे हुए हैं

जिस मुल्क की सरहद की निगे बा है आंखें ये आंखें भारत की महान सेना के महान सेना नायकों की आंखें जो हमेशा 24 घंटे हर पल हर सांस एक एक पहर एक एक मिनट सिर्फ और सिर्फ सरहद की सुरक्षा में लगी रहती है पाकिस्तान जैसा कायर देश जो घात लगाकर चोरी छुपके नि हथ पर हमला करने को ही बहादुरी समझता है अब कांपने लगा है क्योंकि भारत के आर्मी चीफ जनरल मनोज पांडे का हेलीकॉप्टर जम्मू के आसमान में नजर आ गया है इधर बॉर्डर पर मनोज पांडे मौजूद थे उधर पाकिस्तान की बेचैनी बढ़ती जा रही थी।

 

आतंकियों के आकाओं के पैरों तले जमीन खिसक रही थी प्लान तैयार हो रहा है अहम निर्देश दिए जा रहे हैं आर्मी चीफ ने एकएक चुनौती का खुद से निरीक्षण किया है थल सेना अध्यक्ष ने उधमपुर में सेना के नोदन कमांड का दौरा किया सेना के कमांडर और कोर कमांडरों के साथ बैठक की और घाटी में मौजूदा हालात का पूरा जायजा लिया साथ ही पंच राजौरी ऑपरेशन की जानकारी भी ली जनरल मनोज पांडे ने देश के जवानों को और भारतीय सेना के अहम अधिकारियों को यह बड़ा संदेश दिया है कि कश्मीर में शांति रहनी चाहिए कश्मीर में अशांति फैलाने के दुश्मन के किसी भी कदम को मुंह तोड़ जवाब दिया जाना चाहिए।

 

कुंज के डेरा की गली में हुए बड़े आतंकी हमले में चार जवान शहीद हो गए उसके बाद देश के सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने जम्मू में दौरा किया उसके बाद वह पुंछ राजौरी गए और वहां पर उन्होंने उच्च स्तरीय बैठक की इस बैठक में उनके साथ आर्मी कमांडर भी मौजूद थे उनके साथ उन्होंने इन आंतकवादी गतिविधियों पर बातचीत की जिसके बाद वो राजोरी के डिव हेड क्वार्टर में बैठ गए और वहां पर अधिकारियों से भी मुलाकात की आपको बता दें कि पुंछ में हुए इस आतंकी हमले के बाद जनरल मनोज पांडे का यह पहला दौरा था।

 

इसदौरे के बाद यह भी कहा जा रहा है कि उन्होंने आतंकवादी गतिविधियों पर बेहद महत्त्वपूर्ण चर्चा की जिसके बाद यह भी कहा जा रहा है कि जम्मू राजौरी पुंछ जितने भी इलाके हैं वहां पर सिक्योरिटी सुरक्षा बलों की जो टुकड़िया है उनको बढ़ा दिया गया है और सर्च ऑपरेशन को भी तेज कर दिया गया है हम आपको बताएंगे कि कैसे पूरा देश भारत के उन महान वीरों को श्रद्धा सुमन अर्पित कर रहा है जो पुंज के हमले में वीर गति को प्राप्त हुए हैं हम आपको यह भी बताएंगे कि कैसे ड्रोन से साजिश करके आतंकियों के लिए पाकिस्तान कैश हथियार और बम बारूद मुहैया करवा रहा है।

 

एक तरफ राजोरी पुंछ में आतंकी हमला होता है और चार जवान हमारे शहीद हो जाते हैं और ठीक दो दिन पहले अखनूर के खड़ इलाके में आतंकी संदिग्ध गतिविधियां देखी जाती हैं जिसमें दो आतंकवादियों को मार गिराया जाता है और अब आप देखिए कि पाकिस्तान बार-बार अपनी नापाक कोशिशों को अंजाम देने में बाज नहीं आ रहा है इस समय हम खोड़ी इलाके में है जहां पर एक बड़ी रिकवरी डोन ड्रॉपिंग हुई है देखिए पाकिस्तान कैसे आतंकी भन एक बार फिर से उठा रहा है पुंछ में आतंकी हमला हुआ अखनूर में घुसपैठ की कोशिश हुई 12 मुला में मस्जिद में घुसकर हत्या कर दी गई रजौरी के जंगलों में 25 से 30 आतंकियों के छुपे होने का अनुमान है।

 

लेकिन अब बड़ी घटना यह है कि जम्मू में जड़िया क्षेत्र में ड्रोन से हथियार भी गिराए गए हैं आखिर ड्रोन में क्या बरामद हुआ है और कैसे ड्रोन के जरिए पहले भी पाकिस्तान आतंकवादी तक भेजने की साजिश भी रख चुका है यह सब हम आपको बताने वाले हैं लेकिन सबसे पहले हम आपको उन शोर वीरों के गांव में ले चलेंगे जहां की मिट्टी आज चंदन की तरह महक रही है और हजारों लोग श्रद्धांजली देने पहुंच रहे [संगीत] हैं यह तस्वीर देखिए नाम है वीरेंद्र सिंह वीरेंद्र सिंह 15वीं गढ़वाल राइफल में तैनात थे वीरेंद्र सिंह के परिवार में पत्नी और उनकी दो बेटियां हैं परिवार में माता-पिता के अलावा उनके दो भाई और एक बहन भी हैं।

 

भाई बहनों में सबसे छोटे वीरेंद्र सिंह थे वीरेंद्र सिंह के बड़े भाई आईटीडीपी में तैनात हैं वीरेंद्र सिंह के पिता पेशे से किसान है यह उत्तराखंड के कोटद्वार के रहने वाले गौतम कुमार की तस्वीर है गतम कुमार के पार्थिव शरीर पर फूल चढ़ाने के लिए कोटद्वार में हजारों की भीड़ उमड़ पड़ी है पूरी सैन्य परंपराओं का पालन करते हुए गौतम कुमार को अंतिम विदाई दी गई है की गौतम कुमार 2014 में सेना के 89 आम कोर में भर्ती हुए थे और दो साल से जम्मू कश्मीर के पुंछ में तैनात थे छुट्टी के बाद 16 दिसंबर को ड्यूटी पर वापस लौटे थे इसी साल सितंबर में सगाई हुई थी चार भाई बहनों में गौतम कुमार सबसे छोटे [संगीत] थे।

 

इसे भी पढे: जम्मू कश्मीर में Aarmy का तेज ऑपरेशन, राजौरी में हुए आतंकी हमले

इसे भी पढे: Indian Railways: अमृत भारत ट्रेन एक नऐ टेक्नोलॉजी से बनाई गई है, अमृत भारत की सुरक्षा

 

और यह करण यादव का गांव है कानपुर के चौबेपुर में इस गांव का नाम भाऊपुर है जहां पर गार्ड ऑफ ऑनर के साथ करण यादव को श्रद्धांजलि दी गई है देश के लिए अप्रतिम बलिदान देने वाले करण यादव को गार्ड ऑफ ऑनर के साथ श्रद्धांजलि दी गई पूरे कानपुर वासी अपने लाडले अपने बेटे को जिसने देश के लिए शहादत दी उसको अंतिम विदाई देने के लिए पहुंचे हुए हैं यहां पर हजारों की तादाद में भीड़ है यहां पर और आप देख पा रहे हैं कि जो पार्थिव शरीर के ऊपर से जो तिरंगा होता उस तिरंगा को इस वक्त पार्थिव शरीर के ऊपर से हटाया जा रहा है परिजन को लाया जा चुका है इससे पहले की घटनाक्रम को बताएं तो गड ऑफ ऑनर दिया गया था।

 

यहां पर गॉड ऑफ ऑनर दिए जाने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री और तमाम जो यहां पर पदाधिकारी थे उन्होने ने ड श्रद्धांजलि दिया और अब यहां पर देखन ये जो तस्वीर है ये तस्वीर हर किसी की आंखों में आंसू ला दे परिजन फिर भी गर्व कर रहे हैं कि उनका बेटा देश के लिए शहीद हुआ है उन्हें गर्व है अपने बेटे पर और यहां पर देखिए तिरंगा जो है परिजनों को सौंपते हुए जो शहीद करण यादव की पत्नी है उन्हें तिरंगा यहां पर आर्मी अधिकारी जो है सौंपते हुए कानपुर के भावपुर गांव में आज हर किसी की आंखें नम है।

 

उनके पिता बालकराम यादव पेश किसान है बेटे की वीरता ने आज बालक राम यादव की छाती गर्व से चौड़ी कर दी है शहीद के पिता बालक राम यादव ने कहा है कि जब तक आतंकियों को घुस कर नहीं मारा जाएगा पाकिस्तान को सबक नहीं मिलेगा य गर्व तो है ही है कि बेटा शहीद हुआ नाम अमर कर गया अपना य तो गर्व है लेकिन वो जो अपने साथ छोड़ गया है घर की देखरेख करता था और मान लो जो है परिवार को संभाल के रखता था व चला गयाली जिसके साथ में दो बहीन शादी करने के लिए दो भाई थे।

 

एक बहन की शादी हो गई थी तीन बहने थी एक की शादी हो गई थी दो महीने रह गए थे उसका विचार था कि फरवरी में छुट्टी भी आएगी के हेलीकॉप्टर होंगे तो दोनों के एक साथ शादी करेंगे नहीं आया चला गया बस यही है अब याद याद रह गई 10 साल पहले करण यादव सेना में भर्ती हुए थे करण यादव के परिवार में माता-पिता के अलावा पत्नी और दो बेटियां हैं और उनके परिवार में एक भाई और दो बहने भी हैं करण अपने परिवार में सबसे बड़े भाई थे और उनकी कमी कभी पूरी नहीं हो पाएगी हमेशा सालती रहेगी करण यादव के पिता बालक राम यादव को अपने बेटे पर गर्व है।

 

और इसके साथ उनकी यह इच्छा भी है कि देश हमेशा उनके बेटे की निशानी को याद रखे हमारा शहीद हुआ है देश के लिए उसने प्राणों की निछावर कर दी उसका नाम अमर हो गया अब सरकार के यह कहना चाहते हैं कि उसका नाम हमेशा के अमर रहे ऐसी कोई प्रतिमा उसकी बनवा दे उसके लिए रोड बनवा दे तो उसका नाम चलता रहेगा देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले चंदन कुमार 9 आर्म रेजीमेंट के जवान थे 5 साल पहले सेना में भर्ती हुए थे चंदन कुमार के पिता किसान है एक साल पहले चंदन की शादी हुई थी और वह बिहार के नवादा जिले के रहने वाले थे।

 

एक तरफ पाकिस्तान की हरकतों से उसकी बेचैनी बिल्कुल साफ नजर आ रही है और दूसरी तरफ जम्मू के अंदर स्थानीय संगठनों के विरोध प्रदर्शन भी शुरू हो चुके हैं बामला में जिस तरह बेरहमी के साथ मस्जिद में घुसकर एक रिटायर्ड एसएसपी मोहम्मद शफी की हत्या की गई है जम्मू के अंदर भी भारी गुस्सा देखा जा रहा है जम्मू के स्थानीय संगठनों ने मिलकर पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जम्मू के लोगों की मांग है कि आतंकियों को ईंट का जवाब पत्थर से दिया जाए ठीक इसलिए नहीं है कि आखिरी दौर के अंदर है समाप्त हो गई है लेकिन समाप्ति के अंदर भी कुछ ना कुछ चलता रहे।

 

और हमारे शहीदों को नुकसान लेकिन मैं फिर कहना चाहता हूं इस सारे विषय पर जो अंडरग्राउंड वर्कर हैं जो अंदर से पूरी सूचनाएं पाकिस्तान को देने का प्रयास करना चाहते हैं और उसमें ज्यादा म्यानमार के लोग हैं और यहां की एडमिनिस्ट्रेशन ने कदम उठाया लेकिन फिर मैं कहना चाहता हूं उन पर कड़ी कारवाही ओवरग्राउंड वर्कर को हमको पहचानने का प्रयास करना होगा और उनके खिलाफ कारवाई करनी होगी पाकिस्तान अपने आतंकी मंसूबों से बिल्कुल भी बाज नहीं आ रहा है अब नई साजिश के तहत जम्मू के अंदर ड्रोन से हथियार और कैश के साथ ही बम बनाने का सामान भी गिराया गया है।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हाय दोस्तों मेरा नाम हेमंत कुमार है, मैं एक ब्लॉग वेबसाईट चलता हूँ जिसमें हम आप लोगों को न्यूज के रिलेटेड इस ब्लॉग पर पोस्ट डालते हैं जैसे बिजनेस, इंटरटैनमेंट, फाइनैन्स, ट्रेंडीड, स्टोरी, जॉब और न्यूज इन सभी न्यूज के रिलिटेड हम इस वेबसाईट पर पोस्ट डालते है।